बुधवार, 28 अक्तूबर 2009

ग़ज़ल....ek baar phir

आपकी आंखों में नमी भर दी !
बेगुनाहों ने मर के हद कर दी


उग के सूरज ने धूप क्या कर दी
ज़र्द चेहरों की बढ़ गयी ज़र्दी


आप अगर मर्द हैं तो खुश मत हों
काम आती है सिर्फ़ नामर्दी 


फिर कहीं बेकसूर ढेर  हुए
आज कितनी अकड़ में है वर्दी 


आदमी हूँ, मुझे भी खलता है
पेड़ पौधों से इतनी हमदर्दी!


और बेटी का बाप क्या करता
अपनी पगडी तो पाँव में धर दी

33 टिप्‍पणियां:

दर्पण साह 'दर्शन' ने कहा…

aap jaise lekhkon ki ghazal hamesha prerna shrot rahin hain....

mere blog main aaki bebak tippani hetu dhanyvaad,:

"ek mithi si tippani ke hum nahi kayal,
Jab aalachona hi nahi ki to tappani kya hai?"

दर्पण साह 'दर्शन' ने कहा…

AUR EK BLOG SHURU KIYA THA KABHI JO NAZAM SULJHANE KE LIYE HI DEDICATED HAI:

HTTP://NAZMULJHIHAI.BLOGSPOT.COM

महफूज़ अली ने कहा…

फिर कहीं बेकसूर ढेर हुए
आज कितनी अकड़ में है वर्दी


wah bahut khoob.......

bahut hi khoobsoorat lagi yeh ghazal.....


www.lekhnee.blogspot.com

"अर्श" ने कहा…

bahut kam hi aisi gazalen hoti hain jo beradif padhane me majaa deti hai.. unmese ye ek hai ,.. wese to har she'r kamayaab hai magar is she'r ke kya kahane... lajawaab shayari ki hai aapne... tazarbaari ki ye baaten achhi lagi huzoor...

और बेटी का बाप क्या करता
अपनी पगडी तो पाँव में धर दी

bahut bahut badhaayee is khubsurat shr'r aur ek mukammal gazal ke liye...



arsh

नीरज गोस्वामी ने कहा…

इस बेहतरीन ग़ज़ल के लिए सर्वत साहब दिली दाद कबूल कीजिये...सारे शेर बहुत असर दार हैं...
नीरज

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सर्वत जी ..... धमाकेदार ग़ज़ल है ........ हालत और समाज का आइना है आपकी ग़ज़ल ........ हर शेर काबिले तारीफ़ है

AlbelaKhatri.com ने कहा…

बहुत खूब कहा..........

बेहतरीन कहा..........


और बेटी का बाप क्या करता
अपनी पगडी तो पाँव में धर दी

ग़ज़ल मुबारक !

अबयज़ ख़ान ने कहा…

खाकी पर आपने दो लाइन में ही सबकुछ कह दिया.. बहुत भावनात्माक गज़ल है।

राज भाटिय़ा ने कहा…

आप अगर मर्द हैं तो खुश मत हों
काम आती है सिर्फ़ नामर्दी

सर्वत साहब पुरी की पुरी गजल ही लाजवाव है किस किस शेर की तारीफ़ करुं..... आप ने आईना दिखा दिया, बहुत गहरे भाव है , बहुत दर्द है आप की गजल मे.
धन्यवाद

वाणी गीत ने कहा…

आप अगर मर्द हैं तो खुश मत हों
काम आती है सिर्फ़ नामर्दी
आदमी हूँ, मुझे भी खलता है
पेड़ पौधों इतनी हमदर्दी!
धारदार व्यंग्य ...बहुत खूब ..!!

योगेश स्वप्न ने कहा…

sarwat ji, mujhe to ye bhala laga, vaise poori rachna behatareen hai

और बेटी का बाप क्या करता
अपनी पगडी तो पाँव में धर दी

Nirmla Kapila ने कहा…

पूरी गज़ल ही लाजवाब है मगर ये शेर दोल को छू गया
और बेटी का बाप क्या करता
अपनी पगडी तो पाँव में धर दी
शुभकामनायें

Harkirat Haqeer ने कहा…

आप अगर मर्द हैं तो खुश मत हों
काम आती है सिर्फ़ नामर्दी

बहुत khoob....!!

फिर कहीं बेकसूर ढेर हुए
आज कितनी अकड़ में है वर्दी

waah .....!

और बेटी का बाप क्या करता
अपनी पगडी तो पाँव में धर दी

बहुत ही gambhir maslon पर tikhe shbdon का vaar है .....!!

संजीव गौतम ने कहा…

आपकी आंखों में नमी भर दी !
बेगुनाहों ने मर के हद कर दी
बहुत बडा शेर है. वाह! हद शब्द इसके ग़ज़लपन की नींव में है.
ये भी बहुत अच्छा शेर हुआ है-
उग के सूरज ने धूप क्या कर दी
ज़र्द चेहरों की बढ़ गयी ज़र्दी

और बेटी का बाप क्या करता
अपनी पगडी तो पाँव में धर दी
इअसके लिये तो बस आह!
आदमी हूँ, मुझे भी खलता है
पेड़ पौधों इतनी हमदर्दी!
शेर अच्छा है इसमें पेड पौधों के बाद शायद 'से' छपने से रह गया है.
इस उम्दा ग़ज़ल के साथ जन्म दिवस की कोटि-कोटि शुभकामनाएं.
आपके आजके जन्मदिवस की संख्या में दो का गुणा हो.

MUFLIS ने कहा…

फिर कहीं बेकसूर ढेर हुए
आज कितनी अकड़ में है वर्दी

और बेटी का बाप क्या करता
अपनी पगडी तो पाँव में धर दी

huzoor !!
ye to kamaal kar diyaa aapne
ghazal meiN aisi sachchi baateiN..
aur wo bhi iss itmenaan se keh lena,,
aap hi ke bs ki baat hai
mubarakbaad qubool farmaaeiN

Gaurav Singh ने कहा…

bohot sundar likha aapne, lajawaab sher .

गौतम राजरिशी ने कहा…

कुछ हट कर कहे गये शेरों ने ग़ज़ल की सुंदरता बढ़ा दी है। यही तेवर तो माँग रही है आज की ग़ज़लें।

साधुवाद सर!

justicefordalits ने कहा…

likhte rahe yuhin aap sada,
yahi hai khuda ki marzi

Mumukshh Ki Rachanain ने कहा…

और बेटी का बाप क्या करता
अपनी पगडी तो पाँव में धर दी

"काम आती है नामर्दी" का इससे बड़ा सुबूत और क्या होगा.

बेहतरीन ग़ज़ल एक बार फिर से.....................

हार्दिक बधाई.

चन्द्र मोहन गुप्त
जयपुर
www.cmgupta.blogspot.com

गर्दूं-गाफिल ने कहा…

वह सर्वत साहब

नए पुराने से क्या होता है
असर चोट खाने से होता है

तालीम तजुर्बा दोनों हाज़िर
पता आजमाने से होता है

हमेशा की तरह शानदार ग़ज़ल
चौथे शेर मे लगानी पद रही है अकल

शरद कोकास ने कहा…

अपनी पगडी तो पाँव में धर दी .... क्या बात है ।

श्याम सखा 'श्याम' ने कहा…

आदमी हूँ, मुझे भी खलता है
पेड़ पौधों से इतनी हमदर्दी!

वाकई आज मेनका गांधी सरीखे लोग पशुओं के नाम पर नाम रोटी खा ऐश कर रहे हैं आम आदमी को कौन पूछता है,रोज विलुप्त प्र्जातियों ,पौधों -पशुओंसे अखबार पटे हैं .रेड इन्डिय्न्स से शुरू हो कितनी जन जातियाम लुप्त हो गईं ,धोबी-पकावे-पथेरे-रंगरेज व दर्जी[ रेडीमेड के चलते] विलुप्त हो रहें हैं कौन पूछता है ? आपकी चिन्ता वाजिब है
और वाजिब व प्रभाव शाली है आपकी गजल बधाई
श्याम सखा श्याम

सतीश सक्सेना ने कहा…

भई वाह ....

अर्कजेश ने कहा…

विचारपूर्ण , झकझोरने वाली गज़ल ।

आपकी आंखों में नमी भर दी !
बेगुनाहों ने मर के हद कर दी

अर्शिया ने कहा…

जिंदगी की तल्ख सच्चाईयों को शेरों में आपने बहुत खूबसूरती से पिरोया है। बहुत बहुत बधाई।
------------------
और अब दो स्क्रीन वाले लैपटॉप।
एक आसान सी पहेली-बूझ सकें तो बूझें।

सतीश सक्सेना ने कहा…

मोती पिरोये हैं आपने ! शुभकामनायें भाई जी !

सतीश सक्सेना ने कहा…

कहाँ हो भाई जी ? खैरियत तो है ??

शिव कुमार "साहिल" ने कहा…

Namaskar

bahut hi lazbaab

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

आदमी हूँ, मुझे भी खलता है
पेड़ पौधों से इतनी हमदर्दी!
....................................
और बेटी का बाप क्या करता
अपनी पगडी तो पाँव में धर दी
................................
दाद के लिये आम लफ्ज़ों से काम नहीं चलने वाला
यहां तो इसके लिये भी हुनर चाहिये

शाहिद मिर्ज़ा शाहिद

Devendra ने कहा…

छोटे बहर में बड़े तेवर से लिखते हैं आप!
आपको पढ़ते-पढ़ते बहुत नीचे चला गया... मेरा मतलब है कि कई गज़लें पढ़ लीं..
आइना हूँ मैं दीवार पर
आइये, देखिये, जाइए
--पहले तो इसी शेर को पढ़कर लौटने का मन किया था फिर बेहयायी से पूरा पढ़ गया...
अब लग रहा है कि अच्छा किया आप का ही एक शेर याद आया
--आप अगर मर्द हैं तो खुश मत हों
काम आती है सिर्फ़ नामर्दी
-- खुशी हुई आप को पढ़कर।

सर्वत एम० ने कहा…

नया साल आपको मुबारक हो, हालाँकि बहुत देर से मुबारक पेश कर रहा हूँ. आपने फिल्म देखी, बीयर पी, ख़ाक लुत्फ़ उठाया, ८०% रात बच्चों की फ़िक्र में गुज़ार दी. लेकिन एक बात अगर नहीं कही तो शायद मेरा शुमार काफिरों में हो जाए, जाते हुए साल की और आते हुए साल का पहला लम्हा जिस अंदाज़ से आपने गुज़ारा, उसका ज़िक्र इतने प्यारे अंदाज़ में किया, उसने नए साल की खुशियों में और भी इजाफा कर दिया.
जर्मनी में रहते हुए भी आपने बच्चों की परवरिश जिन संस्कारों के साथ की है, उसके लिए आपको सलाम करता हूँ.

श्रद्धा जैन ने कहा…

आपकी आंखों में नमी भर दी !
बेगुनाहों ने मर के हद कर दी

hmm bahut gahri baat ......



आप अगर मर्द हैं तो खुश मत हों
काम आती है सिर्फ़ नामर्दी


फिर कहीं बेकसूर ढेर हुए
आज कितनी अकड़ में है वर्दी

hmm bahut sach


आदमी हूँ, मुझे भी खलता है
पेड़ पौधों से इतनी हमदर्दी!


और बेटी का बाप क्या करता
अपनी पगडी तो पाँव में धर दी
bahut hi gahra kataksh ......


aapki gazal bahut pasand aayi
zamane baad aapko padhna achcha laga

likhte rahe

हिमान्शु मोहन ने कहा…

पुरानी ग़ज़लों पर आपकी, टिप्पणी नहीं करता था कि आदाब नहीं पता थे इस ब्लॉग दुनिया के। अब मैं यहाँ तक्ल्लुफ़ से ऊपर, अपने-"पन" तक आ गया हूँ। अपनी पर आते-आते याद आया कि आपकी ये ग़ज़ल-कैसा हॉण्ट करती रहती है - सो आ गया शुक्रिया अदा करने इस स्जे'र का -
"काम आती है सिर्फ़ नामर्दी"
और हम क्या नया-पुराना सोचें - नई जगह है - नए लोग, तो हमारे लिए तो सब कुछ नया ही है।
बहुत ख़ूब है ये तंज़िया अंदाज़।